Flutter और React Native में क्या अंतर है 2019

By | February 11, 2019

फ्लटर और रिएक्ट नेटिव में क्या अंतर है (2019)

तो मैंने आपको बता दिया की Flutter क्या होता है और dart language बारे में भी बता दिया

ताकि आप अच्छे से समझ सके कि google ने क्यों एक नया Android OS निकाला है
मैंने आपको React.js और React Native के बारे में भी बताया

अगर आपने नहीं पढ़ा तो मैं चाहूंगा कि आप पहले उसे पढ़ ले ताकि आपको यह blog पोस्ट समझ में आ सके

यहाँ से पढ़े –

1 – React.js और react native क्या होता है

2 – Dart language क्या है (flutter)

3 – Flutter क्या है और कैसे काम करता है?

तो अब मैं ऐसा मान के चलता हूं आपने पिछला पोस्ट पढ़ लिया है

summary के लिए यहां पर थोड़ा सा बता देता हूं

React.js

React.js जावास्क्रिप्ट की एक library है जिसको की बनाया गया है ताकि बिना page दुबारा लोड हुए और विनय स्पीड को कम किए

वर्चुअल मेमोरी का यूज करके, एल्गोरिदम की मदद से रितेश को लंबा दिखाया जा सके

अगर आपको यहां पर नहीं समझ में आ रहा है तो मैं चाहूंगा कि आप पिछले पोस्ट पढ़ने क्योंकि वहीं से आपको पूरी बात समझ में आएगी

और रिएक्ट नेटिव रिएक्ट जेएस का ही एक एंड्राइड वर्जन है बेसिकली साधारण शब्दों में समझें तो

वेब ब्राउज़र के लिए बनाए गए रे आरटीजीएस को मोबाइल के लिए बनाए जाने पर उसे रिएक्ट नेटिव कहा जाने लगा

रिएक्ट नेटिव में आप वेब डेवलपमेंट की लैंग्वेज का यूज करके सॉफ्टवेयर की मदद से एंड्रॉयड और आईओएस के लिए एप्लीकेशन बना सकते हैं

फ्लटर

लेटर एक लैंग्वेज है जिसे गूगल ने बनाया था ताकि मोबाइल फोन के लिए और भी अच्छा एप्लीकेशन बनाए जा सके

फ्लटर की भी खासियत यह है कि इसमें बनाए गए एप्लीकेशन आप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों में रन करा सकते हो

और अगर आप लेटर के कोर्ट में कोई बदलाव करते हैं तो आपको पूरा का पूरा एप्लीकेशन दोबारा से कंपाइल करने की जरूरत नहीं है

आप डायरेक्ट चेंज किए गए कोर्ट को बंद करते हुए देख सकते हैं

अब बात आती है कि

फ्लटर और रिएक्ट नेटिव में क्या अंतर है

तो इस बात की ज्यादा उम्मीद है कि आपने react-native का नाम सुना होगा पर शायद आपने फ्लटर का नाम ना सुना हो

रिएक्ट नेटिव 1 तरीके की या कि जावास्क्रिप्ट लैंग्वेज है जिसमें कि अगर आप कोई एप्लीकेशन बनाते हो तो आपको जावास्क्रिप्ट या फिर एसएस में लिखना होगा और फिर एक ब्रिज के जरिए वह कोड एग्जीक्यूट होगा

वही डाल्ट एक तरीके की मशीन लेवल लैंग्वेज है

मतलब कि सच में डांट मशीन लेवल लैंग्वेज नहीं है पर डेट में लिखे गए एप्लीकेशन के कोड जो होते हैं वह डायरेक्ट हार्डवेयर से इंटरेक्ट करते हैं वह ज्यादा सॉफ्टवेयर से इंटरेक्ट नहीं करते हैं

इसलिए फ्लटर में एनिमेशन यूज करना आसान हो जाता है रिया के नीति एक लैंग्वेज है जो कि मोबाइल के ऑपरेटिंग सिस्टम पर ज्यादा निर्भर करती है

जिसकी वजह से वह मोबाइल के काफी ज्यादा रिसोर्सेज कंज्यूम करती है पर फ्लटर लैंग्वेज ज्यादा रिसोर्सेस कानून नहीं करती है

बस इतना सा ही है अंतर अगर आप सीखना चाहते हैं दोनों में से कोई एक

और अगर आपको जावास्क्रिप्ट थोड़ी बहुत आती है तो आप रिएक्ट नेटिव सीख सकते हैं

और अगर आप थोड़ी सी मेहनत करके कुछ अच्छा सीखना चाहते हैं तो मैं आपको कहूंगा आप फ्लटर जरूर सीखें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *